ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
फर्जी इंजन व चेसिस नंबर डालकर चोरी की कारें बेचने वाले गैंग का भंडाफोड़
June 22, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • Lucknow/UP News

लखनऊ। दुर्घटना में कंडम हो चुकी गाड़ियों के इंजन व चेसिस नंबर को चोरी के वाहनों पर लगाकर देश भर में बेचने वाले गैंग का लखनऊ पुलिस ने भण्डाफोड़ कर दिया। पुलिस ने गैंग के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है, जिनमें कार बाजार मालिक, स्क्रैप कारोबारी व भोजपुरी फिल्म कलाकार समेत अन्य शामिल हैं। इनके पास से चोरी की 50 लग्जरी कारें बरामद हुई हैं, जिनकी कीमत पांच करोड़ रुपये बताई जा रही है। आरोपियों से पूछताछ में गैंग के अन्य सदस्यों व चोरी की एक हजार से अधिक गाड़ियों की बिक्री का खुलासा हुआ है। इनकी धरपकड़ और गाड़ियां बरामद करने के लिए देश के अलग-अलग राज्यों में छापेमारी की जा रही है।

पुलिस कमिश्नर सुजीत पाण्डेय ने बताया कि 15 जून को चिनहट पुलिस मटियारी चौराहे पर चेकिंग कर रही थी। इस दौरान आई-20 कार में सवार लोग पुलिस को देख गाड़ी छोड़कर भाग निकले। बाद में पुलिस ने गाड़ी को लावारिस में दाखिल करके जांच शुरू की। गाड़ी में यूपी 32 एफबी 7474 नंबर पड़ा था। परिवहन एप के जरिए इसका रजिस्ट्रेशन नंबर चेक किया गया तो पता चला कि गाड़ी कैसरबाग निवासी नासिर खान के नाम है और उसका मॉडल वर्ष 2013 है। यह देख पुलिस को शक हुआ, क्योंकि बरामद गाड़ी काफी नई लग रही थी। इंस्पेक्टर चिनहट क्षितिज त्रिपाठी ने इस बारे में डीसीपी पूर्वी सोमेन वर्मा और एसीपी विभूतिखण्ड स्वतंत्र सिंह को बताया तो गाड़ी की जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला के निदेशक को पत्र भेजा गया। फोरेंसिक जांच में इंजन और चेसिस नंबर से छेड़छाड़ किए जाने की पुष्टि हो गई। 

केमिकल ने बिगाड़ा गैंग का समीकरण 
फोरेंसिक विशेषज्ञों ने जैसे ही गाड़ी के इंजन और चेचिस नंबर पर केमिकल डाला तो उसका पेंट उतर गया और असली इंजन और चेचिस नंबर उभर कर सामने आ गया। पता चला कि गाड़ी का असली रजिस्ट्रेशन नंबर यूपी 32 केडब्लू 3999 है, जोकि पांच जून को गोमतीनगर इलाके से चुराई गई थी और उसकी रिपोर्ट भी दर्ज है। इससे साफ हो गया कि यह किसी ऐसे गैंग का काम है जो इंजन और चेचिस नंबर बदल कर चोरी की गाड़ियां बेच रहे हैं। इनकी धरपकड़ के लिए पुलिस व सर्विलांस सेल की कई टीमें लगाई गई। दर्जनों कार डीलरों व मुखबिरों से पूछताछ के बाद पुलिस आखिरकार आरोपियों तक पहुंच गई। 

लॉकडाउन के चलते डम्प कर रखी थी गाड़ियां 
रविवार को पुलिस ने इस गैंग के पांच सदस्यों ठाकुरगंज के हुसैनाबाद निवासी रिजवान, मॉडल हाउस निवासी नासिर खान उर्फ छोटी पुलिस, कानपुर के बर्रा निवासी श्याम जी जायसवाल, आलमबाग के रामनगर निवासी विनय तलवार और खदरा के शिवनगर निवासी मोईनुद्दीन उर्फ पप्पू खान को गिरफ्तार कर लिया। इनकी निशानदेही पर चिनहट की डूडा कालोनी, इमली बाधन तिराहा और केडी सिंह बाबू स्टेडियम के पास स्टैंड में रखी गई चोरी की 50 लग्जरी गाड़ियां बरामद की गईं। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि लॉकडाउन न हुआ होता तो अब तक ये गाड़ियां बेच चुके होते।