ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
पीएम मोदी ने श्रीराम जन्मभूमि परिसर में लगाया पारिजात का पौधा
August 6, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • aastha/Jyotish

आज पीएम मोदी ने अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का भूमि पूजन से पहले परिसर में पारिजात का पौधा लगाया। परिजात के पौधे के धार्मिक महत्व के कारण ही इसे भूमि भूजन कार्यक्रम का हिस्सा बनाया गया है। परिजात के पौधे के फूलों से भगवान हरि का श्रृंगार होता है। ऐसा कहा जाता है कि मां लक्ष्मी को भी इसके फूल बेहद पसंद हैं।  यह औषधिय पौधा हिमालय के नीचे के तराई वाले क्षेत्रों में पाया जाता है। 

क्या है मान्यता: आज से हजारों वर्ष पूर्व द्वापर युग में स्वर्ग से देवी सत्यभामा के लिए भगवान श्रीकृष्ण के द्वारा धरती पर लाए गए पारिजात वृक्ष की कथा प्रचलित है। यह देव वृक्ष समुद्र मंथन से उत्पन्न हुआ था। 14 रत्नों में यह एक विशिष्ट रत्न रहा है। सौभाग्य और हर्ष की बात यह है कि यह वृक्ष कुशभवनपुर (सुलतानपुर) की पावन धरती पर गोमती नदी के तट पर स्थित  अतीत की अनोखी कहानी सुना रहा है।  यह भी कहा जाता था कि इस पेड़ को छूने मात्र से इंद्रलोक की अपसरा उर्वशी की थकान मिट जाती थी।  पारिजात धाम आस्था का केंद्र है। सावन माह में यहां श्रद्धालुओं का मेला लगता है। महाशिवरात्रि व्रत पर यहां कई जिलों से श्रद्धालु जल चढ़ाने पहुंचते हैं। 

अधिकतर पारिजात का पेड़  10 से 15 फीट ऊंचा होता कहीं, कहीं इसकी ऊंचाई 25 से 30 फीट भी होती है। इस पेड़ पर सफेद रंग के फूल आते हैं ।