ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
लखनऊ में अवैध संबंध में हत्या, पति-पत्नी समेत तीन गिरफ्तार
August 1, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • Lucknow/UP News

लखनऊ । पारा के पूर्वीदीन खेड़ा जेबी गार्डेन में बीते 6 जुलाई को अधेड़ संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गया था। मामले की जानकारी होनें पर अधेड़ की बहन ने पारा थाना में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। घटना को लेकर पुलिस छानबीन में जुटी हुई थी। सर्विलांस की मदद से तीन लोगों हिरासत में लिया उसके बाद पूछताछ की। जिसमें तीनों ने गला दबाकर हत्या कर शव को कपड़े में लपेटकर नाले में फेकने की बात बताई। जिस पर पुलिस ने नाले से बीती देर रात अधेड़ का शव बरामद किया। 

पूर्वीदीनखेड़ा जेबी गार्डेन निवासी 48 वर्षीय उदयराज सिंह यादव उर्फ बाबा पूर्व में बोरिंग का काम व मौजूदा समय में ब्रोकरी करता था। उदय राज मूलरूप से अमेठी शिवरतनगंज सेमरउटा पूरेचिन्ता गांव का रहने वाला था और जेबी गार्डेन में पिछले पन्द्रह साल से रहता था। वहीं उसके साथ में माल बेलाहार सिसवारा निवासी राजेश्वरी अपने आठ बच्चों के साथ रहती थी। लाॅकडाउन के समय राजेश्वरी का पति छेद्दू रावत भी आ गया था और अक्सर उदयराज के साथ ही कमरे पर रहता था और बीते छह जुलाई को संदिग्ध परिस्थितियों में उदयराज सिंह लापता हो गया था। जिस पर उदयराज का हाल लेने के लिए अमेठी निवासी बहन रामदुलारी ने मोहल्ले में फोन किया। जिस पर मोहल्ले के लोगों ने रामदुलारी को उदयराज के गांव जाने की बात बताई थी।

उदयराज की कोई भी जानकारी न मिलने पर रामदुलारी पूर्वीदीन खेड़ा पहॅुचकर बीते 17 जुलाई को पारा थाना में गुमशुदगी की तहरीर दी। पुलिस ने लापरवाही बरतते हुए इस मामले में 21 जुलाई को गुमशुदगी दर्ज की। उसके बाद छानबीन में जुटी। सर्विलांस की मदद से उदयराज के मोबाईल की लोकेशन उसी के घर की मिलने पर पुलिस ने छेद्दू रावत, राजेश्वरी व उसका बेटा जोगेन्द्र को हिरासत में लेकर गहनता से पूछताछ की। जिसमें तीनों ने मिलकर उदयराज को बीते 6 जुलाई को गला दबाकर हत्या कर उसके शव को कपड़े में लपेटकर नाले में फेकने की बात स्वीकार की। पुलिस के मुताबिक उदयराज सिंह व राजेश्वरी के बीच अवैध सम्बंध थे और प्रापर्टी के लालच में पति पत्नी बेटे ने मिलकर शराब पिलाकर गला दबाकर हत्या कर दी और उदयराज का शव कपड़े मे लपेटकर गाजी हैदरकैनाल में फेंक दिया।