ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
लाल निशान के ऊपर बह रही राप्‍ती, सरयू और रोहिन
July 18, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • Lucknow/UP News

गोरखपुर I पूर्वांचल में बाढ़ का खतरा बना हुआ है। राप्ती नदी का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है। राप्ती खतरे के निशान को पहले ही पार कर चुकी है। खतरे के निशान को पार कर चुकी रोहिन का जल स्तर शुक्रवार को घटने लगा है। सरयू का पानी भी धीरे-धीरे उतर रहा है। कुआनों और गोर्रा का जल स्तर बढ़ रहा है। 

खतरे का निशान पहले ही पार कर चुकी राप्ती का जल स्तर  बर्डघाट  में खतरे के निशान 74.98 मीटर से ऊपर 75.420 मीटर पर पहुंच गया। रोहिन खतरे के निशान से ऊपर 82.700 मीटर पर बह रही है। हालांकि रोहिन का पानी घटने लगा है। कुआनों और गोर्रा का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। सरयू नदी तुर्तीपार में घटने लगी है। 
नदियों का पानी घट-बढ़ रहा है। हालांकि कटान तेज हो रही है। जंगल कौड़िया ब्लाक के राजपुर दूबी गांव का अस्तित्व संकट में आ गया है। बड़हलगंज और गोला विकास खंड में सरयू तबाही मचा रही है। खोराबार ब्लाक के नउवा अव्वल में राप्ती कटान कर रही है। सिंचाई विभाग के अधिकारी लगातार नजर रख रहे हैं।

राजपुर दूबी व नउवा अव्वल में हो रही कटान
राप्ती नदी नउवा अव्वल और राजपुर दूबी गांव के पास कटान कर रही है। नदी की कटान से तटबंध को खतरा पैदा होने लगा है। सिंचाई विभाग के साथ ही प्रशासनिक अधिकारी लगातार नजर रख रहे हैं।

डीएम ने कहा, सतर्क रहें अधिकारी-कर्मचारी
जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही सिंचाई विभाग, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों को सतर्क रहने को कहा है। डीएम ने कहा है कि चूक किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

आपदा मित्रों ने संभाली कमान
बाढ़ चौकियां पर प्रशिक्षित आपदा मित्रों को भी जुड़े रहने को कहा गया है। सभी 86 बाढ़ चौकियों पर तैनात राजस्व-पुलिस और स्वास्थ्य कर्मियों को संसाधन मुहैया करा दिए गए हैं। लाउड हेलर, सर्चलाइट, लाइफ जैकेट और 3-3 एप्रेन दिए गए हैं। 

ग्रामसभाओं को मिल गईं नावें
राप्ती, रोहिन, सरयू खतरे का निशान पार कर चुकी हैं और कुआनों और गोर्रा का जल स्तर भी तेजी से बढ़ रहा है।  जिला प्रशासन द्वारा मंगवाई गई 10 नावें ग्राम सभाओं में पहुंचा दी गई हैं। इनमें से एक नाव मटियारी गांव में पहुंचाई गई और ग्रामीणों ने उसका इस्तेमाल शुरू कर दिया है।