ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
खराब लाइफस्टाइल, डाइट और मोटापा जैसी कई समस्याएं हैं कार्डिएक अरेस्ट की वजहें
July 3, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • health & mahila jagat/Fashion

गलत लाइफस्टाइल जंक फूड का सेवन और मोटापा कई बीमारियों की वजहें होती हैं इसलिए समय-समय पर हेल्थ चेकअप कराते रहना जरूरी है जिससे समय पर आप इनसे वाकिफ होकर उचित इलाज करा सकें।

कार्डिएक अरेस्ट एक तरह से दिल की बीमारी होती है जो अचानक से आती है। इसमें दिमाग और शरीर के बाकी अंगों में ब्लड सर्कुलेशन बंद हो जाता है और व्यक्ति की दम घुटने से मौत हो जाती है। आपको यह बता दें कि कार्डिएक अरेस्ट और हार्ट अटैक दोनों अलग-अलग चीज़ें हैं। खराब लाइफस्टाइल और डाइट कार्डिएक अरेस्ट के बढ़ते मामलों की खास वजहें हैं। समय-समय पर अपने हेल्थ की जांच कराते रहना चाहिए। जांच के लिए किसी बीमारी का इतंजार न करें, क्योंकि आपकी छोटी सी लापरवाही किसी बड़ी बीमारी की वजह बन सकती है।

कार्डिएक अरेस्ट के लक्षण

1. सांस फूलना

2. घबराहट महसूस होना

3. सीने में दर्द

4. चक्कर आना

5. बेहोश होना

6. बेचैनी

7. तनाव

तनाव दिल पर बुरा असर डालती है जिससे हार्ट धीरे-धीरे कमजोर होने लगता है और एकदम से काम करना बंद कर देता है। 

कार्डिएक अरेस्ट की वजहें

हाई ब्लड प्रेशर

किसी भी चीज़ के लिए बहुत ज्यादा टेंशन न लें क्योंकि ये आपकी सेहत के लिए बिल्कुल भी सही नहीं है। 

मोटापा

हम सभी बढ़ते वजन से होने वाली समस्याओं से वाकिफ हैं तो इसे नजरअंदाज करने की जगह कंट्रोल करने की जरूरत है। 

डायबिटीज

डायबिटीज अपने साथ कई बीमारियां लेकर आती है। इसे इसे शुरू से ही कंट्रोल में रखें।

ध्रूमपान

धूम्रपान की वजह से दिल की बीमारियां होने की आशंका तीन गुना ज्यादा बढ़ जाती है और दिल की बीमारी कार्डियक अरेस्ट की वजह बन सकती है।

पहले कभी हार्ट अटैक आया हो

पहले कभी भी हार्ट अटैक आया है तो आपको खासतौर से एतिहात बरतने की जरूरत है।

हाई कोलेस्ट्रॉल

बचाव

रोजाना व्यायाम करें।

बैलेंस डाइट लें।

कम से कम तनाव लें।

कोलेस्ट्रॉल न बढ़ने दें।

ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल में रखना बेहद जरूरी है।

समय-समय पर हेल्थ चेकअप कराते रहें।

मोटापे पर भी दें ध्यान

इलाज

ऐसे में सीपीआर सबसे ज्यादा जरूरी होता है। जो शरीर के अंगों में ब्लड सर्कुलेशन को कंट्रोल करता है।

सीपीआर की जानकारी नहीं तो तुरंत एंबुलेंस को कॉल करें।