ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
दिल को सेहतमंद रखना है तो चॉकलेट खाइए- रिसर्च
July 25, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • health & mahila jagat/Fashion

चॉकलेट खाने का शौक हर उम्र के लोगों को होता है। बच्चे तो चॉकलेट के बिना रह नहीं सकते। चॉकलेट जितनी टेस्टी होती है उतनी ही हेल्थ के लिए फायदेमंद भी होती है। एक नए शोध में ये बात सामने आई है कि हफ्ते में कम से कम एक बार चॉकलेट खाने से दिल के रोग से बचा जा सकता है। यूरोपियन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चलता है कि चॉकलेट दिल की रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ रखने में मदद करती है।

अमेरिका में बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन के प्रमुख लेखक चयक्रिट क्रिटाननॉन्ग ने कहा कि पिछले अध्ययनों से पता चला है कि चॉकलेट रक्तचाप और रक्त वाहिकाओं के लिए फायदेमंद है। उन्होंने बताया कि मैं यह देखना चाहता था कि क्या चॉकलेट हृदय (कोरोनरी धमनियों) की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करती है या नहीं। और यदि ऐसा होता है, तो क्या यह फायदेमंद या हानिकारक है?

शोधकर्ताओं ने अध्ययन में पिछले पांच दशकों से चॉकलेट की खपत और कोरोनरी आर्टरी डिजीज (कोरोनरी धमनियों की रुकावट) के बीच संबंध की जांच कर एक संयुक्त विश्लेषण किया।

विश्लेषण में छह अध्ययनों में कुल 336,289 प्रतिभागियों को शामिल किया गया, जिन्होंने अपनी चॉकलेट खाने की आदत का खुलासा किया।

अध्ययन में पाया गया कि लगभग नौ वर्षों के बीच में 14,043 प्रतिभागियों ने कोरोनरी धमनी की बीमारी होने की शिकायत दर्ज की, जबकि 4,667 लोगों को दिल का दौरा पड़ा।

अध्ययन में पाया गया कि जो लोग चॉकलेट नहीं खाते उनकी तुलना में जो लोग सप्ताह में कम से कम एक बार चॉकलेट खाते हैं उनको आठ प्रतिशत कोरोनरी धमनी की बीमारी का खतरा कम होता है।

चॉकलेट में दिल से स्वस्थ पोषक तत्व होते हैं जैसे कि फ्लेवोनोइड, मिथाइलक्सैन्थिन, पॉलीफेनोल और स्टीयरिक एसिड जो सूजन को कम कर सकते हैं और अच्छे कोलेस्ट्रॉल (उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन या एचडीएल कोलेस्ट्रॉल) को बढ़ा सकते है।

शोधकर्ताओं के मुताबिक अध्ययन में चॉकलेट से होने वाले फायदे का तो पता चल गया लेकिन ये पता लगाने के लिए कि कोरोनरी धमनी की बीमारी को रोकने के लिए चॉकलेट की कितनी मात्रा की आवश्यकता है इसपर अभी और अध्ययन होने की आवश्यकता है।