ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
भुट्टा शरीर में एनर्जी बढ़ाने के साथ ब्लड में कोलेस्ट्रॉल का लेवल रखता है कंट्रोल
July 9, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • health & mahila jagat/Fashion

भुट्टा या कॉर्न एक ऐसा आहार है जिसे आप ब्रेकफास्ट, मील और स्नैक्स में शामिल कर सकते हैं। इसे मकई या भुट्टा भी कहते हैं जो कि फाइबर, विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है। मकई के दाने पोषक तत्वों से भरे होते हैं। इन्हें आप भूनकर, सब्जी के रूप में, उबालकर या किसी डिश में मिलाकर खा सकते हैं। भुट्टा शरीर में कोलेस्ट्रॉल यानी अतिरिक्त फैट को कम करता है। इसमें बायोफ्लेवोनॉयड्स, कैरोटेनॉयड्स और विर्टांमस होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करके कोशिकाओं को ब्लॉक होने से रोकते हैं इसीलिए भुट्टा खाने से दिल की बीमारियां दूर रहती हैं।

भुट्टा लगभग हर किसी को पसंद होता है साथ ही यह हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद भी होता है। इसमें मैग्नीशियम और आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाता है।

  • भुट्टे में मौजूद कार्बोहाइड्रेट शरीर में एनर्जी बढ़ाता है। यह इंसुलिन को नियंत्रित करता है।
  • यदि आप कुछ किलोग्राम वजन बढ़ाना चाहते हैं तो इसे अपनी डाइट में शामिल करना फायदेमंद हो सकता है।
  • कॉर्न पेट की सामान्य समस्याओं जैसे एसिडिटी, कब्ज और मल के कड़ेपन आदि दूर करने में भी फायदेमंद होता है।
  • भुट्टे का सेवन आंखों की सेहत के लिए भी बहुत गुणकारी होता है। दरअसल, इसमें विटामिन-ए और बीटा-कैरोटीन खूब पाए जाते हैं।
  • भुट्टे में जिंक और फास्फोरस होता है, इसलिए ये हड्डियों से संबंधित रोग जैसे आर्थराइटिस और ऑस्टियोपोरोसिस आदि से भी बचाता है।
  • भुट्टे का सही मात्रा में सेवन आपकी देखने की क्षमता को तो बढ़ाता ही है साथ ही आंखों में होने वाली समस्याएं जैसे मैक्युलर डी-जनरेशन और रतौंधी आदि से भी बचाव करता है।
  • गर्भावस्था के दौरान भुट्टे का सेवन मां और गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए फायदेमंद होता है। यह शिशु में जन्म दोषों, मांसपेशियों की विकृति व कई शारीरिक समस्याओं से बचाता है।
  • अगर आप दिनभर थकान महसूस करते हैं और आपको काम करने में आलस भी आता है, तो अपने आहार में कॉर्न शामिल करें। इससे पेट भी जल्दी भर जाता है और पर्याप्त ऊर्जा बनी रहती है।