ALL National/Others Lucknow/UP News aastha/Jyotish health & mahila jagat/Fashion recipe international Bollywood/entertainment technology Cricket Travels
अनलॉक का मतलब पूरी स्वतंत्रता नहीं, मास्क लगाएं व सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें : योगी आदित्यनाथ
June 19, 2020 • जयंती एक्सप्रेस • Lucknow/UP News

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अनलॉक का मतलब पूरी स्वतंत्रता नहीं है। उन्होंने कहा कि पुलिस यह देखे कि लोग मास्क लगा कर ही निकले। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि सोशल डिस्टेसिंग का पालन हो रहा या नहीं। अगर ऐसा नहीं है तो जुर्माना लगाए। रात के वक्त कर्फ्यू का सख्ती से पालन किया जाए। पुलिस अधिकारी सुरक्षा के लिए सही तरीके से पेट्रोलिंग करें।  

मुख्यमंत्री ने गुरुवार रात नोडल अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए यह बात कही। उन्होंने कहा कि संक्रमण रोकने के लिए हर जगह उचित तरीके से स्क्रीनिंग की जाए। जनता को बताया जाए कि कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है केवल सावधानी बरतने की जरूरत है। लोग खुद आगे आएं और जांच करुवाएं। हर जिले में टेस्टिंग लैब स्थापित करने का काम तेज किया जाए। सीएम ने कहा कि एम्बुलेंस का गंतव्य तक पहुंचने का समय और बेहतर करने की जरूरत है। अन्यथा एंबुलेंस सेवा चलाने वाली एजेंसियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

सीएम ने कहा कोविड हेल्पडेस्क को और सुदृढ़ करने की जरूरत है। इंफ्रारेड थर्मोमीटर व आक्सीमीटर की व्यवस्था की जाए। सीएम ने कहा कि अस्पतालों में मौजूद वेंटीलेटर को दुबारा चेक करना चाहिए कि वह काम कर रहे हैं या नहीं। इसके अलावा एल 1 एल 2 अस्पतालों को सभी चिकित्सीय सुविधाओं से लैस मानना चाहिए। एम्बुलेंस में आक्सीजन की व्यवस्था हर हाल में होनी चाहिए। हर जिले के लिए कार्ययोजना बननी चाहिए। कोरोना टेस्टिंग के लिए ट्रूनेट मशीन का उपयोग किया जाना चाहिए। जून तक राज्य में बेड की तादाद डेढ़ लाख तक हो जानी चाहिए। यह सारी व्यवस्था पूरी तरह ठीक से लागू हो। हर डीएम व सीएमओ इसके लिए कार्ययोजना बनाए। कोविड निरोधक प्रबंधन स्टाफ को प्रशिक्षित बढ़ाया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारियों ने जो मुद्दे उठाए हैं, उनका हम लोग समाधान कराएंगे। सीएम ने नोडल अधिकारियों के काम की सराहना भी कही। उन्होंने कहा कि कोविड मरीज को गुनगुना पानी दिया जाए मरीजों के तीमारदारों के मोबाइल नंबर उपलब्ध रहें ताकि समय से उन्हें पूरी जानकारी दी जा सके। बेड शीट समय समय पर बदली जानी चाहिए। यदि जरूरत हो तो एल 1 अस्पतालों में आयुष डाक्टरों की मदद  ली जाए। अस्पतालों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं। इंफ्रारेड थर्मोमीटर व आक्सीमीटर की व्यवस्था की जाए। सीएम ने कहा कि अस्पतालों में मौजूद वेंटीलेटर को दुबारा चेक करना चाहिए कि वह काम कर रहे हैं या नहीं। इसके अलावा एल 1 एल 2 अस्पतालों को सभी चिकित्सीय सुविधाओं से लैस मानना चाहिए। एम्बुलेंस में आक्सीजन की व्यवस्था हर हाल में होनी चाहिए।

सीएम ने कहा कि समय बचाने के लिए अस्पतालों को आपस में बेहतर समन्वय रखना चाहिए। सीएम ने कहा कि सीमित संसाधनों के बावजूद कुछ जिलों ने बेहतर काम किया है। सीएम ने कहा कि वह नोडल अधिकारियों से जल्द दुबारा बात करेंगे। इस बैठक के बाद  सीएम ने स्वास्थ्य विभाग के मंत्रियों के साथ बैठक की।